You are here
Home > India > Crime > साइप्रस में फंसे शिप आफिसर संजीव सिंह के परिवार ने सरकार से लगाई गुहार

साइप्रस में फंसे शिप आफिसर संजीव सिंह के परिवार ने सरकार से लगाई गुहार

उदयपुर – उदयपुर की रहने वाली श्वेता सिंह राठौर ने साइप्रस पोर्ट पर मौजूद एमवी मैरीन नाम के एक जहाज में  फंसे अपने पति संजीव सिंह की सरकार से मदद की गुहार लगाई है। उनके पति के साथ ही कुल दस भारतीय और तीन विदेशी नागरिकों की जान भी खतरे में हैं।

इस सम्बंध में उन्होंने भारतीय दूतावास को पत्र लिखने के साथ ही स्थानीय प्रशासन से भी सम्पर्क किया है। मामला जहाज की बिक्री को लेकर हुए करार का बतलाया जा रहा है।  कम्पनियों के इस करार में वे कर्मचारी उलझ गए हैं जो शिप के क्रू या चालक सदस्यों के रूप में काम कर रहे थे। परन्तु अब उन्हें न वेतन मिल रहा है। न ही अन्य किसी तरह की सुविधाएं। यहां तक कि उन्हें धमकियां दी जा रही हैं।

पत्नी श्वेता सिंह राठौर के मुताबिक, उनकी अपने पति से व्हाट्सएप कॉल पर मुश्किल से बात हो पा रही है। जहाज के सभी क्रू मेंबर्स एक तरह से बंधक बना गए हैं। उन्हें साइप्रस पोर्ट अथॉरिटी से भी कोई मदद नहीं मिल पा रही है। ऐसे में विदेश मंत्रालय के तुरंत हस्तक्षेप से ही मदद मिल सकती है। शिप के सदस्यों ने भी भारत सरकार से सम्पर्क किया है। परन्तु उन्हें कोई मदद नहीं मिल सकी है।

जानकारी के मुताबिक एमवी मरीन शिप अब लीबिया की नई कम्पनी का है पहले इसका नाम एस सी एस्त्रा (SC Astrea) था और यह नॉर्वे  का शिप था। श्वेता राठौर का कहना है, उनके पति ने फोन पर खबर दी है कि पिछले तीन दिनों से उन्हें भोजन और पानी मिलना भी मुश्किल हो गया है। लीबियन कम्पनी की तरफ से धमकियां मिल रही हैं।श्वेता राठौर ने जानकारी दी है कि शिप में उनके पति सेकंड ऑफ़िसर हैं जबकि विजय स्वामी चीफ़ ऑफ़िसर और एलेक्जेंडर बाइको कैप्टन हैं। पिछले करीब 36 घण्टे से श्वेता पति की सही सलामत वापसी की कामना कर रही हैं।

Leave a Reply

Top