You are here
Home > Life Style > डॉक्टर मुक्ति पाराशर ने जन्मदिन पर लिया मरणोपरांत देहदान का संकल्प

डॉक्टर मुक्ति पाराशर ने जन्मदिन पर लिया मरणोपरांत देहदान का संकल्प

कोटा – इतिहासकार,व्याख्याता और समाजसेविका डॉक्टर मुक्ति पाराशर द्वारा अपने 45 वे जन्मदिन को अनोखे तरीके से मनाते हुये देहदान का संकल्प लिया। इस आशय का  संकल्प पत्र समाजसेवी डॉ दुर्गा शंकर सैनी और शाइन इंडिया फाउंडेशन की उपस्थिति में भरा गया

समाजसेविका, इतिहासकार, डॉ मुक्ति पराशर ने पूर्व में नेत्रदान का संकल्प भी लिया हुआ है। अपने 45 वे जन्म दिवस पर मुक्ति पराशर ने कहा कि वैदिक विज्ञान से आधुनिक मेडिकल साइंस के युग तक महर्षि दधिची का नाम विश्व के प्रथम देहदानी के रूप में लिया जाता है। जिन्होंने अपनी हड्डियां दान कर दुनिया के सामने मृत्यु के बाद शरीर के महत्व को प्रतिपादित किया इसी प्रेरणा से प्रेरित होकर में आज इस  नशवर शरीर को देहदान करने का संकल्प पत्र भर रही हूं।

मुक्ति पराशर ने देहदान के संकल्प का उद्देश्य पर्यावरण संरक्षण और कोटा के होनहार भविष्य डॉक्टर्स को सीखने के लिये जन्म दिन के अवसर पर अपनी  अपनी देहदान मरणोपरांत  का संकल्प   लिया।

डॉ सैनी ने इस पुनीत कार्य के लिये मुक्ति पराशर को बुके देकर सम्मानित   व आभार प्रकट किया इस पुनीत  कार्य मे शाइन इंडिया फाउंडेशन  सहयोग रहा शाइन इंडिया फाउंडेशन के सदस्य गजेन्द्र ओझा ने आकर संकल्प पत्र भरवाया।

डॉ मुक्ति पाराशर के साथ डॉ दुर्गा शंकर सैनी,संजय सेन ,गजेंद्र ओझा,योगेश डोरिया,किरण, इति श्री, राकेश वैष्णव, संजू नागर उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Top